Universe TV
हर खबर पर पैनी नजर

उत्तर बंगाल के चाय बागानों में अब तक नहीं हो पायी बोनस की घोषणा, त्योहारी सीजन में भी श्रमिक निराश

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

जलपाईगुड़ी। दुर्गापूजा में अब गिने चुने दिन शेष रह गये हैं। शहर की बड़ी पूजा समितियों ने पंडाल का निर्माण शुरू कर दिया है. हालांकि जलपाईगुड़ी के डेंगुआझार चाय बागान सहित डुआर्स के हजारों चाय बागान श्रमिकों के मन में दुर्गापूजा बोनस को लेकर संदेह बरकरार है. क्योंकि गुरुवार तक चाय श्रमिकों के बोनस की घोषणा नहीं की गई है. डेंगुआझार चाय बागान के श्रमिक सुनीता उरांव ने कहा कि हमने पूरे वर्ष तक आंधी, तूफान, पानी और बारिश में निर्धारित मात्रा के बराबर चाय की पत्तियां तोड़ने का काम किया है। लेकिन आज मालिक पक्ष 20 प्रतिशत बोनस की जगह 8.33 प्रतिशत बोनस देने की बात हो रहा है? इतने कम बोनस में मैं बच्चों के कपड़े सहित हमारी जरूरतें कैसे पूरी हो सकती है?
राज्य के अन्य हिस्सों के साथ-साथ, जब जलपाईगुड़ी जिले के लोग त्योहार की तैयारी में व्यस्त हैं, उस समय एक चाय बागान श्रमिक सिर पर चाय की पत्तियों का बोझ और पसीने से भीगा हुआ चेहरा लिए पूरा दिन मेहनत कर रहा है। एक श्रमिक ने कहा कि हमने अपना काम ठीक से किया है, जबकि उद्यान अधिकारी अब हमें घाटे का बहाना और कम बोनस दे रहे हैं। उसने कहा कि जब तक हमे 20 प्रतिशत की दर से बोनस नहीं देंगे, हम किसी भी तरह से स्वीकार नहीं करेंगे।
चाय बागान श्रमिकों के बोनस के संबंध में डेंगुआझार चाय बागान के उप महाप्रबंधक और भारतीय चाय बागान एसोसिएशन के डुआर्स शाखा के अध्यक्ष जीबन चंद्र पांडे ने कहा कि विभिन्न कारणों से चाय नीलामी केंद्र में चाय की बिक्री कम हो गई है. चायपत्ती की कीमत और मांग कम हो गई है, लेकिन हम यह आशा कर रहे हैं। उद्योग से जुड़े सभी लोगों के साथ बैठकर चर्चा करके हम एक स्वस्थ समाधान तक पहुंच सकते हैं।


- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.