Universe TV
हर खबर पर पैनी नजर

भूकंप आने से पहले ही स्मार्टफोन से मिलेगी चेतावनी, ऐसे काम करेगा नया फीचर

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

नई दिल्ली। कैसा हो अगर भूकंप आने से पहले ही आपको चेतावनी मिल जाए। दिग्गज टेक्नोलॉजी कंपनी गूगल ने भारत में भूकंप चेतावनी प्रणाली लॉन्च की। यह सर्विस एंड्रॉइड स्मार्टफोन यूजर्स को मिलेगी। इसके जरिए एंड्रॉइड स्मार्टफोन उपभोक्ताओं को भूकंप का अलर्ट मिल जाएगा। इसके जरिये लोगों को सुरक्षित भागने में मदद म‍िलेगी। भूकंप दुनिया में सबसे आम प्राकृतिक आपदाओं में से एक है। प्रारंभिक चेतावनी मिलने से लोग खुद को और अपने प्रियजनों को समय से सुरक्षित निकालने में सफल होंगे। इसे काफी महत्‍वपूर्ण बताया जा रहा है। गूगल दो प्रकार के अलर्ट भेजता है, सावधान रहें और ऐक्‍शन लें।
एनडीएमए और एनएससी की मदद से शुरू प्रणाली
भारत में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) व राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र (एनएससी) के सहयोग से शुरू की गई इस प्रणाली में भूकंप का पता व अनुमान लगाने के लिए स्मार्टफोन में सेंसर का उपयोग किया गया है। प्रत्येक एंड्रॉइड फोन एक्सेलेरोमीटर से लैस होता है। यह मिनी सीस्मोमीटर के रूप में काम कर सकता है। अगर कई फोन एक ही समय में एक साथ हिलने लगें तो गूगल का सर्वर एक्टिव हो जाएगा। यह भूकंप का संकेत हो सकता है।
सर्वर फोन पर भेजा अलर्ट
यह सिस्टम चार्जिंग में लगे फोन के वाइब्रेशन पर काम करता है। एक ही समय में क्षेत्र में चार्जिंग में लगे बहुत सारे फोन पर वाइब्रेशन महसूस किए जाते हैं, तो गूगल का सर्वर भूकंप का अनुमान लगा लेता है। सर्वर भूकंप के केंद्र व तीव्रता का अलर्ट आसपास के फोन पर भेज देता है। गूगल ने कहा, इंटरनेट सिग्नल लाइट की स्पीड से तेज चलते हैं, जो भूकंप के झटकों की तुलना में काफी तेज होता है। इसलिए गंभीर झटके आने से पहले फोन पर इसका अलर्ट पहुंच जाता है।
इंटरनेट और लोकेशन सेटिंग्स जरूरी
भारत में इस प्रणाली के जरिए भूकंप की शुरुआती चेतावनी मिलेगी। यह प्रणाली अगले हफ्ते से उन यूजर्स को उपलब्ध होगी, जो एंड्रॉइड-5 या इससे ऊपर के स्मार्टफोन इस्तेमाल करते हैं। अलर्ट पाने के लिए फोन में इंटरनेट कनेक्शन व लोकेशन सेटिंग्स ऑन होना जरूरी है।

 


- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.