Universe TV
हर खबर पर पैनी नजर

विहिप बंगाल में रामनवमी पर निकालेगी 1,000 से अधिक रैलियां

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

कोलकात। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने रामनवमी मनाने के लिए 10 अप्रैल को पश्चिम बंगाल में 1,000 से अधिक रैलियां निकालने की विस्तृत योजना बनाई है। वहीं बंगाल में लगातार होती हिंसा को देखते हुए भी इन शोभायात्राओं को सकुशल संपन्न कराना एक चुनौती भरा काम है। विहिप की राज्य इकाई के मीडिया प्रभारी सौरीश मुखर्जी ने कहा कि इन रैली का उद्देश्य हिंदू समुदाय को एकजुट करना है।
उन्होंने कहा, ‘‘पिछले दो वर्षों से, राज्य में रामनवमी समारोह कोविड-19 महामारी के कारण धूमधाम से नहीं मनाया गया। हमने कोई रैली नहीं की। हमने इस साल इसे बड़े पैमाने पर मनाने का फैसला किया है। हमने फैसला किया है कि राज्य भर में करीब 1,000 रैलियां निकाली जाएंगी।’’
बहरहाल, सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने रामनवमी रैलियों के आयोजन के विहिप के प्रस्ताव पर नाराजगी जताई और दावा किया कि उनका उद्देश्य ‘‘धर्म को राजनीति के साथ मिलाना’’ है। तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता सुखेंदु शेखर राय ने कहा, ‘‘विहिप जो कर रही है, वह नया काम नहीं है। राम नवमी रैलियां पश्चिम बंगाल में पहले भी आयोजित की गई हैं।’’
दूसरी तरफ,विहिप के अनुसार, वे पुलिस की अनुमति नहीं मांगेंगे। लेकिन इसकी सूचना स्थानीय प्रशासन और पुलिस थानों को दी जाएगी। सवाल उठता है कि अगर पुलिस ने अनुमति नहीं दी तो विहिप क्या करेगी?
आपको बता दें, रामनवमी की शोभायात्रा में परंपरा के अनुसार आयुध पूजा या अस्त्र-शास्त्रों की पूजा का भी वुधान है। ऐसे में बंगाल में हिंसा की हालिया घटनाओं को देखते हुए प्रशासन के सहयोग पर जोर दिया जा रहै है।
मुखर्जी ने कहा, कि पुलिस प्रशासन को यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि रामनवमी के दौरान विहिप के किसी भी कार्यक्रम में उपद्रवी बाधा न बनें। ऐसे में देखना होगा कि आने वाले समय में विहिपकी रैली को लेकर राज्य सरकार की कैसी प्रतिक्रिया होती है।


- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.