Universe TV
हर खबर पर पैनी नजर

पलटू बाबू क्या फिर मारेंगे पलटी: एनडीए में लौटने की तैयारी में नितीश कुमार ! राज्य सभा के उपसभापति हरिवंश के साथ सीक्रेट मीटिंग के बाद तेज हुई अटकलें

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

पटना। महाराष्ट्र में उठा सियासी बवाल अबतक थमा नहीं है कि अब नया तूफान बिहार की राजनीति में आने लगा है। बिहार की राजनीति में होने वाले बड़े बदलाव के संकेत देखने को मिल रहे है। जब से बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के खिलाफ लैंड स्कैम घोटाले में चार्जशीट दाखिल हुई है उसके बाद से ही नीतीश कुमार ने अपना रुख भी बदल लिया है।
इसी बीच एक ऐसी घटना बिहार में हुई है जिसके बाद से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के एनडीए में वापस आने की अटकलें तेज हो गई है। ये घटनाएं बिहार में बीते 48 घंटों में हुई है, जिसमें एक सीक्रेट बैठक भी शामिल है। इस बैठक के बाद से कई तरह की अटकलें सामने आने लगी है। साथ ही राजनीतिक बयानबाजी भी तेज हो गई है। मुख्यमंत्री और हरिवंश की मुलाकात के बाद सियासी गलियारों में अकटलों का बाजार तेज हो गया है। बता दें कि हरिवंश नीतीश कुमार के करीबी हैं ही मगर वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भी बेहद करीबी माने जाते है। हरिवंश नारायण जनता दल यूनाइटेड से राज्यसभा सांसद हैं।
नीतीश ने की हरिवंश के साथ बैठक
बिहार की राजनीति में 3 जुलाई को अहम बैठक हुई है, जो कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश के बीच हुई है। डेढ़ घंटे तक चली इस बैठक के बाद से अटकलें लगाई जा रही है कि नीतीश कुमार की एनडीए में जल्द ही वापसी हो सकती है। संभावना जताई जा रही है कि नीतीश कुमार आरजेडी को संकट में देखते हुए एक बार फिर से एनडीए का हिस्सा बन सकते है। इस संबंध में नीतीश कुमार ने अब तक कोई बयान जारी नहीं किया है। हालांकि जेडीयू के नेता ने कहा कि है कि ऐसा कुछ नहीं होने वाला है। ये मुलाकात बीजेपी के साथ जाने का संकेत नहीं है। इस संबंध में बिहार सरकार में मंत्री अशोक चौधरी का कहना है कि हरिवंश बाबू पार्टी के रैंक के साथ है। दोनों नेताओं ने मुलाकात की है, जिसमें कुछ गलत नहीं है। इसे लेकर बयानबाजी करना सही नहीं है।
हरिवंश ने नहीं मानी थी बात
बता दें कि जब नीतीश कुमार एनडीए से अलग हुए थे उस समय हरिवंश और बिहार के मुख्यमंत्री के बीच फांसला काफी बढ़ गया था। जदयू ने जहां नए संसद भवन के उद्घाटन में शामिल नहीं होने का फैसला किया था मगर हरिवंश इस कार्यक्रम का हिस्सा बने थे। हरिवंश के इस कदम पर जदयू ने काफी नाराजगी भी व्यक्त की थी। मगर अब दोनों नेताओं के बीच हुई मुलाकात के बाद माना जा रहा है कि नीतीश कुमार अपने कड़े रुख को नरम कर सकते है।


- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.