Universe TV
हर खबर पर पैनी नजर

मणिपुर बंद का ऐलान, सरकार को 48 घंटे का समय, सीबीआई ने छात्रों के हत्यारों को किया गिरफ्तार

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

नई दिल्ली। मणिपुर में एक बार फिर स्थिति बिगड़ती नजर आ रही है। केंद्रीय जांच ब्यूरो यानी सीबीआई ने दो छात्रों की हत्या के आरोपियों को दबोच लिया है। सीबीआई ने रविवार को चार लोगों को गिरफ्तार किया है। प्रदेश की भाजपा शासित सरकार ने आरोपियों को कड़ी सजा दिलवाने की बात कही है। वहीं इन आरोपियों के पकड़े जाने के बाद घाटी में इंडिजिनस ट्राइबल लीडर्स फोरम (आईटीएलएफ) समेत अन्य आदिवासी समूहों ने गिरफ्तारी के खिलाफ आंदोलन छेड़ दिया है। आदिवासी समूहों ने चुराचांदपुर में सोमवार को पूर्ण बंद का ऐलान किया है। वहीं सरकार ने हालात को भांपते हुए घाटी में 6 अक्टूबर तक इंटरनेट पर एक बार फिर प्रतिबंध लगा दिया है।
सीएम बिरेन सिंह ने कड़ी सजा की कही बात
मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने गिरफ्तारी की जानकारी देते हुए एक्स पर लिखा, “मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि फिजाम हेमनजीत और हिजाम लिनथोइंगंबी के अपहरण और हत्या के लिए जिम्मेदार कुछ मुख्य अपराधियों को आज चुराचांदपुर से गिरफ्तार कर लिया गया है।
जैसा कि कहा जाता है, कोई अपराध करने के बाद भाग सकता है, लेकिन कानून के लंबे हाथों से नहीं बच सकता। हम उनके द्वारा किए गए जघन्य अपराध के लिए मृत्युदंड सहित अधिकतम सजा सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।”
CBI ने महिला समेत 4 को किया गिरफ्तार
दरअसल, 27 सितंबर को घाटी में लगाए गए इंटरनेट प्रतिबंध को बहाल किया गया था, जिसके बाद जुलाई में गायब हुए दो छात्रों के शवों की तस्वरें सोशल मीडिया पर वायरल होने लगीं और घाटी में हिंसा की आग दोबारा सुलगने लगी। जिसके बाद प्रशासन ने एक बार फिर 1 अक्टूबर शाम सात बजे तक इंटरनेट पर पाबंदी लगा दी थी। छात्रों की हत्या के मामले में सीबीआई ने रविवार को एक महिला समेत 4 लोगों को गिरफ्तार किया है। महिला मुख्य आरोपी की पत्नी बताई जा रही है। जिसके बाद आदिवासी संगठनों ने आरोपियों की गिरफ्तारी के खिलाफ विरोध जताने लगे और सोमवार को बंद का आह्वान किया है।
सरकार को 48 घंटों का समय
बता दें कि मणिपुर के मान्यता प्राप्त आदिवासी संगठन ITLF मुख्य रूप से गिरफ्तारी के खिलाफ नाराजगी जाहिर की है। इसके अलावा कई आदिवासी संगठनों ने भी इनका समर्थन किया है। इस संगठनों ने सोमवार सुबह 10 बजे से अगले फैसले तक बंद का ऐलान किया है। इन संगठनों ने सरकार को 48 घंटों का समय देते हुए पकड़े गए आरोपियों को छोड़ने की मांग की है।


- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.