Universe TV
हर खबर पर पैनी नजर

गोरखालैंड का जिन्न फिर आया बोतल से बाहर, सर्द मौसम में गरमाई पहाड़ की राजनीति’, बिमल, विनय, अजय ने एक साथ की गोरखालैंड की मांग

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

यूनिवर्स टीवी डेस्क। दार्जीलिंग पहाड की राजनीति में एक बार फिर से उठा-पटक का दौर शुरू हो गया है। एक तरफ दार्जिलिंग नगरपालिका अजय एडवर्ड की हाथ से निकलकर अनित थापा के पाले में आ गया है, तो वहीँ फिर से गोरखालैंड’ का जिन्न बोतल से बाहर गया है। गोरखालैंड’ की मांग उठाने से सर्द मौसम में पहाड़ की राजनीति’ गरमा गयी है।
आपको बात दें कि दरअसल पहाड की राजनीति हमेशा से चौकाती रही है। कब किसकी सत्ता चली जाए और कौन सत्ता में लौट आए यह कहना मुश्किल होता है। दार्जीलिंग पहाड की राजनीति पिछले चार दशको से गोरखालैंड के इर्द गिर्द घूमती दिखा रही है और एक बार फिर से पश्चिम बंगाल के पार्वत्य इलाके दार्जिलिंग में अलग गोरखालैंड की मांग उठने लगी है। रविवार को कैपिटल हॉल में जनसभा में बिमल गुरुंग, विनय तमांग, अजय एडवर्ड सहित माकपा के जिला सचिव समन पाठक एक ही मंच पर नजर आए। वहां गोरखालैंड की मांग उठी। गोरखालैंड हर किसी की जुबान पर थी। हालांकि, भारतीय गोरखा प्रजातांत्रिक मोर्चा के अध्यक्ष अनीत थापा ने जनसभा की आलोचना की। उन्होंने कहा, ”यह गोरखालैंड के आंदोलन का मंच नहीं है। वह मुझे गाली देने का मंच है। ”
दार्जिलिंग में फिर से उठी अलग गोरखालैंड की मांग
कैपिटल हॉल में शीर्ष पहाड़ी नेताओं ने मिलकर ‘गोरखा स्वाभिमान मंच’ बनाया है। नेतृत्व का दावा है कि मंच गोरखालैंड के अलग राज्य के लिए विरोध करेगा। गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के सुप्रीमो बिमल गुरुंग ने कहा, “गोरखाओं की खातिर पहाड़ों में गोरखालैंड की जरूरत है। हम उस मांग को लेकर धरना प्रदर्शन करेंगे, लेकिन कोई हिंसक आंदोलन नहीं होगा। ” हमरो पार्टी के अध्यक्ष अजय एडवर्ड ने कहा, “गोरखालैंड बौद्धिक रूप से आधारित आंदोलन होना चाहिए। पहाड़ के लिए मांग पूरी करनी होगी. हमने सुना है कि उत्तर बंगाल एक अलग राज्य होगा। अगर ऐसा होता है तो पहाड़ियों को नुकसान होगा।” हालांकि उन्होंने गोरखालैंड समर्थकों को साफ तौर पर समझाया। उन्होंने कहा, “यह गोरखाओं के सम्मान के लिए हमारा संघर्ष है। हम चाहते हैं कि गोरखा स्वाभिमान से जिएं. इसलिए जिस चीज की जरूरत है, उसके लिए हमें आंदोलन करना पड़ रहा है।”
संगठन के सदस्य विनय तमांग ने जनसभा को संबोधित करते हुए कि देश के अलग-अलग इलाकों में रहने वाले गोरखाओं को एकजुट होना होगा। आज गोरखाओं के स्वाभिमान की लड़ाई ने हमें गोरखाओं को एक करने का मंच दिया है. गोरखा स्वाभिमान की लड़ाई का यह मंच मतदान के लिए नहीं बना है और यह मंच राजनीति के लिए नहीं बना है। हमारे गोरखाओं का स्वाभिमान खतरे में है। यह मंच गोरखा एकता के लिए एक ऐतिहासिक मंच बन गया है।
अनैतिक बोर्ड के गठन के खिलाफ सड़क पर उतरी माकपा
फिर सीपीएम के नेताओं ने गोरखालैंड की बात नहीं की बल्कि गोरखाओं के सम्मान और भविष्य की बात की। सीपीएम नेता समन ने कहा, “मुझे कथित अतिक्रमण के खिलाफ आंदोलन के लिए आमंत्रित किया गया था। हम अलग राज्य के पक्ष में नहीं हैं. हम अनैतिक राजनीति के खिलाफ हैं।” उनकी बातों के समर्थन में पूर्व मेयर अशोक भट्टाचार्य ने कहा, ”नगरपालिका के अनैतिक कब्जे के खिलाफ पहाड़ी पर जनसभा की गई। तो हमारी टीम इसमें शामिल हो गई. हमारे जिला सचिव गए।हम हमेशा तृणमूल-भाजपा विपक्षी दल के साथ हैं. मंच पर कोई कुछ भी कह सकता है. हमारी पार्टी निगम के अनैतिक कब्जे के खिलाफ है।”


- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.